भारत में 2019-20 में अधिक महिलाओं ने उच्च अध्ययन के लिए नामांकन किया

0
6


ऐसा लगता है कि अधिक भारतीय अब उच्च शिक्षा प्राप्त कर रहे हैं, विशेषकर महिलाएं। उच्च शिक्षा में भारत का नामांकन 2019-20 में 3.85 करोड़ है, जो 2018-19 में 3.74 करोड़ की तुलना में 11.36 लाख (3.04 प्रतिशत) की वृद्धि दर्ज करता है। यह निष्कर्ष उच्च शिक्षा पर अखिल भारतीय सर्वेक्षण 2019-20 के जारी होने के बाद आया है। रिपोर्ट देश में उच्च शिक्षा की वर्तमान स्थिति पर प्रमुख प्रदर्शन संकेतक प्रदान करती है।

2014-15 में कुल नामांकन 3.42 करोड़ था, द्वारा जारी रिपोर्ट का उल्लेख है शिक्षा मंत्री रमेश पोखरियाल ‘निशंक’। पोखरियाल ने कहा कि 2015-16 से 2019-20 तक पिछले पांच वर्षों में छात्र नामांकन में 11.4 प्रतिशत की वृद्धि हुई है।

मंत्री ने आगे कहा, “इस अवधि के दौरान उच्च शिक्षा में महिला नामांकन में 18.2 प्रतिशत की वृद्धि हुई है।” उन्होंने जोर देकर कहा कि यह केंद्र सरकार द्वारा लड़कियों की शिक्षा, महिला सशक्तिकरण और सामाजिक रूप से पिछड़े वर्गों के सशक्तिकरण पर निरंतर ध्यान देने के कारण है। .

रिपोर्ट के सकल नामांकन अनुपात (जीईआर) के अनुसार, 2019-20 में उच्च शिक्षा में नामांकित पात्र आयु वर्ग के छात्रों का प्रतिशत 2018-19 में 26.3 प्रतिशत और 2014-2015 में 24.3 प्रतिशत के मुकाबले 27.1 प्रतिशत है। .

2019-20 में उच्च शिक्षा में लिंग समानता सूचकांक (GPI) 2018-19 में 1 के मुकाबले 1.01 है, जो पुरुषों की तुलना में पात्र आयु वर्ग की महिलाओं के लिए उच्च शिक्षा के सापेक्ष पहुंच में सुधार का संकेत देता है।

2019-20 में पीएचडी करने वाले छात्रों की संख्या 2014-15 में 1.17 लाख के मुकाबले 2.03 लाख है। निशंक ने ट्वीट किया, “यह जानकर खुशी हो रही है कि पिछले पांच वर्षों में पीएचडी की संख्या में भी 60 प्रतिशत की वृद्धि हुई है। यह सब प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के दूरदर्शी नेतृत्व के कारण संभव हुआ है।”

लाइव टीवी

.



Source link

Google search engine

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here