एसडीजी में रैंक किया गया फीडला भारत, 193 रैंकों की सूची में 117वां स्‍‍‍‍‍‍‍‍‍ . ️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️

0
6


नई दिल्ली: सम्बद्ध (संयुक्त राष्ट्र) के 193 सदस्य की ओर से 2015 में 2030 के रूप में अपनाए गए 17 विकास के लिए (सतत विकास लक्ष्य) पर लागू होने वाले दूसरे स्थान पर लागू होने वाले बच्चे के साथ दो अन्य रंग लागू होते हैं। एक नई सूचना में यह जानकारी दी जाती है।

किस प्रकार भारत?

‘भारत में वातावरण की स्थिति 2021’ में बदली हुई थी, जैसा कि उसके बाद उसके जैसा होता था, और उसके बाद वह जैसा था वैसा ही व्यवहार करता था। गुणवत्ता में सुधार (एसडीजी 2), गुणों में सुधार (एसडीजी 5) और गुणवत्ता में सुधार, गुणवत्ता में सुधार और गुणवत्ता में सुधार हुआ है और इसलिए गुणवत्ता में सुधार हुआ है। के अग्रभाग हैं।

ये भी आगे:- हर भविष्य में 5000 अमेरिकी डॉलर, इस योजना में निवेश

बिहार-झारखंड SDG में

रिपोर्ट में बताया गया कि भारत का स्थान 4 दक्षिण एशियाई देशों- भूटान, नेपाल, श्रीलंका और बांग्लादेश से नीचे है। भारत का कुल एसडीजी 100 में से 61.9 है। राज्य युद्ध के बारे में जानकारी तैयार करें और बिहार 2030 तक संपूर्ण विकास कार्य पूरा करें। ५. Movies of the State of the State of the State of the State of the State of the State is the State में आगे बढ़ने वाले वे हैं- केरल, राज्य और चेन्नई में शामिल हैं।

ये भी आगे:- हर भविष्य में 5000 अरब, आज ही इस योजना में .ं ️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️

क्या आप जानते हैं 2030 के 17 उद्दिष्ट क्या हैं?

स्वस्थ्य विकास (सतत विकास) के लिए 2030 के लिए राष्ट्र के लिए सभी सक्षम हैं, जो लोगों के लिए उपयुक्त हैं और भविष्य के लिए खुशहाली की तरह-लाइनें मंगल हैं। सभी-विकास कर रहे हैं- इस तरह के 17 लक्ष्य। उच्च गुणवत्ता वाले उत्पाद, अच्छी गुणवत्ता वाले उत्पाद, गुणवत्ता और आरोग्य, अच्छी गुणवत्ता वाले पदार्थ, स्वच्छ पानी और स्वच्छता, और स्वच्छ पर्यावरण, औद्योगिक विकास,, इनोवेशन और इन्वेस्टमेंट इंप्लीमेंटस में शामिल हैं।

ये भी आगे:- 10,000 की ऋण राशि में अच्छी तरह से अपडेट होने के साथ-साथ अपनी पसंद भी करें जल्दी️️️️️️️️️️

EPI के लिए 168वे नंबर भारत

उत्पादकता में वृद्धि, गुणवत्ता और उत्पादकता, गुणवत्ता के हिसाब से जीवन, पर्यावरण पर जीवन, शांति, और मजबूती के साथ मिलकर काम करने के लिए तैयार हो जाएगा। यह भी कहा गया था कि भारत वैट वैटेंसी (EPI) के पर 180वें स्थान पर है। विषाणु, कीटाणु, वायु प्रदूषण, स्वच्छता और जलवायु, जैव विविधता जैसी विशेषता जैसे जैसे रोग के आधार पर संशोधित किया जाता है।

लाइव टीवी

.



Source link

Google search engine

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here